बे-तख़ल्लुस

manu

manu

Wednesday, November 26, 2008

""ये ज़मीं, चुकने ही वाली है पर मेरे हमदम...कोंपलें और भी फूटेंगी इन ख़लाओं से.....!!""

2 comments:

MUFLIS said...

---achha tsavvur hai, ummeed hr tarah se khauf pr haavi hi honi chahiye...aapke khyalaat ki zameen mei phoot rahi komplein sayadaar drakht bn kr manzar.e.aam pr aayein....yahee duaa hai.
---MUFLIS---

dwij said...

बहुत खूब प्रस्तुति.


आख़िरी पत्ते ने बेशक चूम ली आख़िर ज़मीन
पर लड़ा वो शान से पागल हवाओं के ख़िलाफ .