बे-तख़ल्लुस

manu

manu

Friday, December 5, 2008

""कितने रदीफ़-ओ-काफिये, कितने ज़वां हुरूफ़,
कब से हैं मुन्तज़िर, तेरे अहसान-ऐ-ग़ज़ल के..""

1 comment:

bahadur patel said...

achchha sher hai.jawab nahin hai .